उज्जैन न्यूज़मध्य प्रदेशलाइफ स्टाइलशिक्षा जगतसामाजिक

उज्जैन शासकीय विधि महाविद्यालय भवन का लोकार्पण मंत्री थावरचंद गहलोत मंत्री मोहन यादव सांसद अनिल फ़िरोजिये ने किया

साइंस कॉलेज में दो और विषयों में अब बीएससी माधव साइंस कॉलेज में दो और विषयों में बीएससी कराएगा। इसी सत्र से बीएससी आनर्स फिजिक्स, एवं बीएससी फिशरी की कक्षाएं शुरू होंगी।

उज्जैन शहर में 6 करोड़ रुपए अधिक से पहला शासकीय लॉ कॉलेज का भवन बनकर तैयार हुआ । करीब पांच हजार वर्ग मीटर में बने दो मंजिला कॉलेज भवन को बॉर काउंसिल ऑफ इंडिया की गाइड लाइन के अनुसार बनाया है। यहां मूट कोर्ट को सुप्रीम कोर्ट की तरह बनाया गया है, जिसकी खंडपीठ पर पांच क्राउन सीट रहेगी। यानी एक साथ पांच जज बैठकर किसी मामले में सुनेंगे। वहीं 1500 वर्ग फीट इतनी बड़े आकार में करीब 12 क्लास रूम भी बनाए गए हैं।
देवास रोड पर करीब 6.50 करोड़ रुपए खर्च कर दो मंजिला लॉ कॉलेज बनाया गया है। जिसका उद्धघाटन आज उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव ,सामाजिक एवं न्याय मंत्री थावरचंद गहलोत द्वारा किया गया ।

पीडब्ल्यूडी की पीआइयू विंग द्वारा तैयार किए गए इस कॉलेज का काम पूर्ण हो चुका है कॉलेज की पहली मंजिल पर सात कक्ष तो दूसरी मंजिल पर पांच कक्ष सहित अन्य निर्माण किए गए हैं। लॉ कॉलेज प्राचार्य डॉ एसएन शर्मा ने बताया कि नए भवन बनने के बाद शहर का पहला शासकीय लॉ कॉलेज होगा, जिसका खुद भवन होगा। अब तक विधि कालेज माधव कॉलेज में संचालित हो रहा था। प्राचार्य डॉ शर्मा के मुताबिक पूरे कॉलेज को इस तरह बनाया गया है कि यहां कानून की पढ़ाई और न्यायालय मंदिर के रूप में दिखाई दे। कॉलेज में कई सुविधाएं विद्यार्थियों को मिलेगी। इसके अलावा प्रोफेसर कक्ष, बैठक रूम सहित अन्य सुविधा व कैंपस भी रहेगा। इसी वर्ष से कॉलेज में विद्यार्थियों की पढ़ाई भी शुरू होगी। पीडब्ल्यूडी पीआइयू के कार्यपालन यंत्री बीडी शर्मा ने बताया कि भवन बनकर तैयार हो गया है।
अगले वर्ष से पांच वर्षीय एलएलबी कोर्स नए कॉलेज भवन के साथ ही अब विद्यार्थियों को पांच वर्षीय लॉ कोर्स की भी सुविधा मिलेगी। प्राचार्य डॉ शर्मा ने बताया कि अगले सत्र से बीएएलएलबी शुरू कर दिया जाएगा। शहर में पांच वर्षीय कोर्स एक निजी कॉलेज में ही संचालित है।

मोहन यादव ने कहा –
सम्राट विक्रमादित्य के नाम से जाना जाएगा ला कालेज
मध्यप्रदेश के 200 शासकीय कॉलेजों में जो जरूरत होगी सब दिया जाएगा ।

थावर चंद गहलोत ने कहा-

भवन की सौगात मिली सबको बधाई
एलिम्को का विस्तार होगा ।

बता दे ,नया लॉ कॉलेज तो बन गया लेकिन यहां पर सड़क और बाउंड्रीवॉल नहीं बन पाई है। इसके लिए अलग से बजट की आवश्यकता है। वर्तमान में यहां कच्ची सड़क है। इन दोनों को निर्माण के लिए उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव से राशि स्वीकृत करने की मांग की गई है।
लॉ कॉलेज में स्मार्ट क्लॉसेस रहेगी। विद्यार्थियों को प्रोजेक्ट के माध्यम से पढ़ाया जाएगा। वहीं कॉलेज में इ-लाइब्रेरी रहेगी, जो पूरी तरह से कम्प्यूटराज्ड होकर इसमें देश-विदेश से लॉ से जुड़ी किताबों को पढ़ा जा सकेगा।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close