विदेश

TikTok को खरीद सकता है Microsoft, US में बैन से बस एक कदम है दूर

टिकटॉक को खरीद सकती है माइक्रोसॉफ्ट

माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने स्पष्ट कहा है कि चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म TikTok को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) बेहद गंभीर हैं और जल्द ही इसके खिलाफ प्रतिबंध जैसे कड़े कदम उठाए जा सकते हैं. उधर टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने कबूल किया है कि वे टिकटॉक में हिस्सेदारी खरीदने के विकल्पों पर विचार कर रहे हैं

वाशिंगटन. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो (Mike Pompeo) ने स्पष्ट कहा है कि चीनी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म TikTok को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) बेहद गंभीर हैं और जल्द ही इसके खिलाफ प्रतिबंध जैसे कड़े कदम उठाए जा सकते हैं. उधर टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) ने कबूल किया है कि वे टिकटॉक में हिस्सेदारी खरीदने के विकल्पों पर विचार कर रहे हैं और ट्रंप से बातचीत के बाद इस पर कोई फैसला लिया जा सकता है. उधर रविवार को टिकटॉक ने कर्मचारियों के लिए के लिए एक संदेश जारी कर कहा है कि घबराने की ज़रुरत नहीं है, अभी कंपनी का अमेरिका से लौटने का कोई इरादा नहीं है.

दो दिन पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से कहा था कि वे टिकटॉक को प्रतिबंधित करने पर विचार कर रहे हैं. बीते शुक्रवार को मीडिया में खबर आयी थी कि प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी माइक्रोसॉफ्ट टिकटॉक के अमेरिकी परिचालन के अधिग्रहण की दिशा में अग्रिम दौर की बातचीत कर रही है. अमेरिका में विदेशी निवेश पर समिति के अध्यक्ष म्नूचिन ने एबीसी न्यूज को एक साक्षात्कार में बताया, ‘मैंने सार्वजनिक रूप से कहा है कि इसकी समीक्षा की जा रही है. पूरी समिति इस बात से सहमत है कि टिकटॉक मौजूदा प्रारूप में नहीं रह सकता है क्योंकि इससे लगभग 10 करोड़ अमेरिकियों की जानकारी लीक होने का खतरा है.’ उधर अमेरिकी वित्तमंत्री स्टीवन म्नूचिन ने रविवार को कहा कि देश के मौजूदा हालात में चीनी ऐप टिकटॉक अपने मौजूदा स्वरूप में देश में नहीं रह सकता क्योंकि ऐप से लगभग 10 करोड़ अमेरिकियों की जानकारी बाहर जाने का खतरा है.

माइक्रोसॉफ्ट खरीदेगा टिकटॉकशनिवार को समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने कहा था कि अमरीका में टिकटॉक का बिज़नेस पूरी तरह बेचने के लिए चीनी कंपनी बाइटडांस राज़ी हो गई है. इससे पहले इस पर माइक्रोसॉफ्ट से कंपनी की चर्चा जारी थी और कंपनी अपने पास कुछ शेयर रखना रखना चाहती थी. लेकिन सूत्रों के हवाले से रॉयटर्स ने ख़बर दी कि इस बात पर भी चर्चा है कि अमरीका में टिकटॉक का पूरा काम माइक्रोसॉफ्ट खरीद लेगा और बाइटडांस पूरी तरह इससे बाहर हो जाएगी. हालांकि माइक्रोसॉफ्ट के बयान के बाद काफी हद तक टिकटॉक के बैन से बच जाने और बदलाव के साथ काम करने की संभावनाएं ज्यादा नज़र आ रही हैं.

टिकटॉक ने कहा- अभी अमेरिका में लंबा वक़्त गुजारेंगेट्रंप के टिकटॉक को देश में बैन करने की चेतावनी के बाद अमेरिका में टिक टॉक की जनरल मैनेजर वेनेसा पापाज़ ने कहा है कि ‘हमें अभी लंबे वक्त तक अमरीका में रहना है.’ एक वीडियो संदेश में वेनिसा पापाज़ ने टिकटॉक यूज़र्स से कहा कि कंपनी के कर्मचारियों ने सुरक्षित मोबाइल ऐप बनाया है. टिकटॉक ने ऐप पर चीनी नियंत्रण से इनकार किया है. बता दें कि अमेरिका में हर महीने करीब 8 करोड़ लोग इस मोबाइल ऐप का इस्तेमाल करते हैं और माना जा रहा है कि अमरीका का ये क़दम टिकटॉक की निर्माता कंपनी बाइटडांस के लिए बहुत बड़ा झटका साबित हो सकता है.

वेनेसा पापाज़ ने कहा कि उन्हें इस बात का अहसास है कि लोग ऐप का समर्थन कर रहे हैं. उन्होंने कहा “हम कहीं जाने की कोई योजना नहीं बना रहे.” डेटा सिक्योरिटी के मु्द्दे पर उन्होंने कहा कि इस मामले में कंपनी अपना काम ज़िम्मेदारी से कर रही है. उन्होंने कहा, “अगर बात सुरक्षा की है तो हम बेहद सुरक्षित ऐप बना रहे हैं क्योंकि हमें पता है कि हम क्या कर रहे हैं. हम यहां लंबे समय के लिए हैं. आप हमारा समर्थन जारी रखें, चलिए सभी टिक टॉक का समर्थन करते हैं.”

बता दें कि अमेरिका में अधिकारी ओर नेता चिंता जता रहे हैं कि टिक टॉक के ज़रिए बाइटडांस कंपनी जो डेटा इकट्ठा कर रही है वो चीनी सरकार के पास पहुंच सकता है. चीन के लिए इस कंपनी ने टिक टॉक की तरह का ही एक अलग मोबाइल ऐप बनाया है जिसे डोयिन के नाम से जाना जाता है. कंपनी का कहना है कि अमरीका के यूज़र्स का जो डेटा एकत्र किया जाता है को अमेरिका में ही स्टोर किया जाता है, हालांकि उसका एक बैकअप सिंगापुर के सर्वर में भी होता है. इससे पहले भारत ने भी टिकटॉक को बैन कर दिया है.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close