मध्य प्रदेश

MP Weather Update : मॉनसून ने दी थोड़ी राहत, अगले 4 दिन में 22 ज़िलों में भारी बारिश की संभावना

[ad_1]

MP Weather Update : मॉनसून ने दी थोड़ी राहत, अगले 4 दिन में 22 ज़िलों में भारी बारिश की संभावना

बारिश की झड़ी से कई ज़िलों में
सामान्य बारिश का कोटा पूरा हो गया है (सांकेतिक तस्वीर)

इस बार बारिश (rain) पिछले साल के मुकाबले काफी पिछड़ गयी है.2019 में जुलाई (julu) में 25.67 इंच बारिश हुई थी जबकि इस बार अभी तक 6.18 इंच बारिश दर्ज की गयी. साल 2019 में 10 अगस्त तक 9.72 इंच बारिश हुई थी जबकि अब तक 1.97 इंच बारिश हुई है.

भोपाल.मध्य प्रदेश (madhya pradesh) के लोगों को मौसम कुछ राहत देने के मूड में है. मौसम विभाग कह रहा है कि अगले 3 से 4 दिन तक लगातार प्रदेश भर के 22 जिलों में तेज बारिश होने के आसार हैं. सोमवार से शुरू हुआ बारिश का सिलसिला जारी है. बारिश (rain) की इस झड़ी के कारण कुछ ज़िलों में सामान्य बारिश का कोटा पूरा हो गया है. सामान्य से कम बारिश वाले ज़िलों की संख्या अब 22 से घटकर 16 रह गयी है.

मॉनसून की इस मेहरबानी से प्रदेश में मौसम का हाल बदल गया है. कई ज़िलों में बारिश का स्तर बढ़ गया है. प्रदेश भर के कई जिलों में झमाझम बारिश हो रही है.यही वजह है कि कई ज़िलों में बारिश का आंकड़ा भी बढ़ गया है. अभी तक प्रदेश के 22 ज़िलों में सामान्य से कम बारिश हुई थी. लेकिन दो दिन की झमाझम बारिश में इन जिलों की संख्या 22 से घटकर 16 पर पहुंच गयी है.

भोपाल भी भीगा
राजधानी भोपाल (bhopal) में लंबे समय से झमाझम बारिश (rain) का इंतजार कर रहे लोगों को थोड़ी राहत मिली है. सोमवार शाम को मौसम का मिजाज़ बदला. बादल छाने के साथ रिमझिम बारिश शुरू हो गयी. के कई इलाकों में देर रात तक बारिश जारी रही.हालांकि सिस्टम गुजर जाने के कारण तेज बारिश नहीं हो रही है.तेज़ बारिश का पूर्वानुमान

मौसम विभाग कह रहा है कि अगले 3 से 4 दिन तक लगातार प्रदेश भर के 22 जिलों में तेज बारिश होने के आसार हैं. पूर्वी मध्य प्रदेश के 7 और पश्चिमी मध्य प्रदेश के 6 जिले ऐसे हैं जहां सामान्य से कम बारिश हुई है. वहीं तीन से 4 दिन तक लगातार होने वाली बारिश से इन जिलों में भी बारिश का कोटा सामान्य से ऊपर पहुंचने के आसार हैं.

सिस्टम दूसरी बार दूर से गुजरा
मौसम विभाग का कहना है एक हफ्ते में दूसरी बार बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना है. यह कम दबाव का क्षेत्र पूर्वी मध्यप्रदेश में छतरपुर के आसपास बना है.यदि यह सिस्टम सागर से गुजरता तो भोपाल में भारी बारिश की उम्मीद थी. लेकिन ये दूर से गुजर गया इसलिए ज्यादा असर नहीं छोड़ पाया. भारी बारिश के बजाए रिमझिम बारिश हो रही है.

जुलाई-अगस्त में पिछड़ी बारिश

इस बार बारिश पिछले साल के मुकाबले काफी पिछड़ गयी है. साल 2019 में जून, जुलाई और अगस्त के महीने के बारिश के आंकड़े से साल 2020के आंकड़े काफी कम हैं. 2019 में जुलाई में 25.67 इंच बारिश हुई थी जबकि इस बार अभी तक 6.18 इंच बारिश दर्ज की गयी. साल 2019 में 10 अगस्त तक 9.72 इंच बारिश हुई थी जबकि अब तक 1.97 इंच बारिश हुई है.

बारिश मिमी में
खजुराहो 5.6
होशंगाबाद 0.2
पंचमढ़ी 3.0
सागर 0.8
दमोह2.0
ग्वालियर2.5
मंडला 3.0
उमरिया 1.0
मलाजखंड 0.5
गुना 3.0
रतलाम 01



[ad_2]
Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close