मध्य प्रदेश

MP Board 12th Result 2020: मध्य प्रदेश बोर्ड 27 जुलाई को जारी करेगा 12वीं का रिजल्ट, पढ़ें डिटेल

एमपी बोर्ड के दसवीं के नतीजे 4 जुलाई को जारी हुए थे.

एमपी बोर्ड 12वीं के परिणाम घोषित होने के बाद, छात्र आधिकारिक वेबसाइट mpbse.nic.in से ऑनलाइन मार्कशीट डाउनलोड कर सकेंगे.

नई दिल्ली. मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (MPBSE) की ओर से जल्द ही 12वीं के परिणाम घोषित करने की उम्मीद है. स्कूल शिक्षा की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी ने पिछले महीने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को सूचित किया था कि कक्षा 10वीं के परिणाम जुलाई के पहले सप्ताह में, कक्षा 12वीं के परिणाम जुलाई के तीसरे सप्ताह में घोषित किए जाएंगे.

12वीं का रिजल्ट 27 जुलाई को 
इस मुताबिक, एमपी बोर्ड 4 जुलाई को कक्षा 10 वीं के परिणाम घोषित किए. अब सभी की नजरें कक्षा 12 के परिणाम पर हैं. एमपी बोर्ड कक्षा 12 वीं का परिणाम 27 जुलाई को दोपहर 03 बजे घोषित होगा. 12वीं का रिजल्ट लॉकडाउन के बीच जारी होगा. प्रदेशभर के 8:30 लाख परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे. ये जुलाई के तीसरे हफ्ते में जारी होना था.


रिजल्ट जारी होने के बाद ऐसे करें चेक
एमपीबीएसई 12वीं के परिणाम का इंतजार कर रहे छात्र एडमिट कार्ड तैयार रखें. क्योंकि स्कोर ऑनलाइन चेक करते समय इसकी आवश्यकता होगी. रिजल्ट एक बार घोषित होने के बाद आधिकारिक वेबसाइटों mpbse.nic.in और mpresults.nic.in पर चेक करें.

मार्कशीट डाउनलोड
एमपी बोर्ड 12वीं के परिणाम घोषित होने के बाद, छात्र आधिकारिक वेबसाइट mpbse.nic.in से ऑनलाइन मार्कशीट डाउनलोड कर सकेंगे.

ऐसे करें चेक

-mpbse.nic.in या mpresults.nic.in पर जाएं.
-होम पेज पर ‘MP Board Class 12 Examination 2020’ लिंक पर क्लिक करें.
-एडमिट कार्ड पर दी डिटेल एंटर कर सबमिट करें.
-MP 12th result 2020 स्क्रीन पर होगा.

ये भी पढ़ें-
MHRD ने बनाई समिति, देश में रहकर छात्रों के पढ़ाई करने पर देगी सुझाव
COMEDK UGET Exam 2020 फिर से स्थगित, अब 19 अगस्त को दो शिफ्ट्स में होगा आयोजित

इस साल एमपी बोर्ड से कक्षा 12 परीक्षा के लिए लगभग 8.5 लाख छात्र पंजीकृत हैं. बोर्ड परीक्षा 2 से 31 मार्च तक होने वाली थी. हालांकि, कोरोवायरस के कारण MPBSE को 20 मार्च से 31 मार्च के बीच होने वाली कुछ परीक्षाओं को स्थगित करना पड़ा. बाद में, बोर्ड ने 9 से 16 जून तक लंबित परीक्षाएं आयोजित करने का फैसला किया. ये फैसला केवल महत्वपूर्ण पेपर के लिए था, जो छात्रों को उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रवेश पाने के लिए आवश्यक हैं. राज्य भर के 3,682 केंद्रों पर कुल साढ़े आठ लाख बच्चों ने एग्जाम दिए थे.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close