स्पोर्ट्स

IPL में चेन्नई सुपर किंग्स की सफलता का क्या है राज, राहुल द्रविड़ ने किया खुलासा

Image Source : IPLT20.COM
Chennai Super Kings

कोरोना महामारी के बीच फैन्स के लिए अब इंडियन प्रीमीयर लीग ( आईपीएल ) का इंतज़ार अब खत्म हो चुका है और 19 सितंबर से सभी टीमें यूएई के मैदान में आईपीएल 2020 के ख़िताब को जीतने के लिए उतरेंगी। इसी बीच टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी राहुल द्रविड़ का मानना है कि आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) की सफलता का प्रमुख कारण उनके कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हैं। इस तरह एक कार्यक्रम द्रविड़ के साथ मौजूद बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष और सीएसके फ्रेंचाइजी के मालिक इंडिया सीमेंट्स के प्रमुख एन श्रीनिवासन भी उनकी बात पर हामी भरते नजर आए। 

इस तरह एन श्रीनिवासन और राहुल द्रविड़ दोनों को ग्रेट लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट द्वारा आयोजित एक वेबिनार में देखा गया। ऐसे में ईएसपीएनक्रिकइंफो के अनुसार इस वेबिनार में द्रविड़ ने सीएसके की सफलता के बारे में बताते हुए कहा, “सीएसके की सफलता देखोगे तो उनकी डाटा की पहुंच बहुत अच्छी है, उनके पास पीछे काम करने के लिए लोगों तक पहुंच बहुत अच्छी है और वे जूनियर स्तर पर क्रिकेट टीमें चलाते हैं। द्रविड़ ने कहा कि वे प्रतिभा को समझते हैं और इसलिए निश्चित रूप से उनके पास स्काउटिंग प्रक्रिया बहुत अच्छी है। लेकिन उनके पास ऐसा कप्तान भी है जो उनकी प्रवृति को बेहद अच्छी तरह समझता है।

वहीं टीम इंडिया में धोनी के साथ काफी समय तक क्रिकेट खेलने वाले राहुल द्रविड़ ने उनके बारे में बताते हुए आगे कहा, “धोनी को अच्छी तरह जानता हूं और उम्मीद करता हूं कि वह बिलकुल नहीं बदला लेकिन मैं जानता हूं कि धोनी डाटा और आकंड़ों पर विश्वास नहीं करता। सीएसके ने तीन बार आईपीएल खिताब अपने नाम किया है जो मुंबई इंडियंस से एक कम है और टीम 10 सत्र में इसका हिस्सा रही है और हर बार नॉकआउट तक पहुंची है।”

वही सीएसके के बारे में श्रीनिवासन ने कहा, “जब डाटा को काफी अहमियत दी जाती है तब कैसे धोनी की सहजता और फैसलों ने टीम को सफलता दिलाई। हम डाटा पर निर्भर रहते हैं। आपको उदाहरण दूं तो काफी गेंदबाजी कोच हैं और टी-20 मैच में वे हर बल्लेबाज की वीडियो चलाते हैं जिनके खिलाफ उन्हें खेलना होता है और वे देखते हैं कि वे कैसे आउट हुए, उसकी ताकत क्या है और उसकी कमजोरी क्या है।”

श्रीनिवासन ने आगे कहा, “धोनी इसमें हिस्सा नहीं लेता, वह पूरी तरह से सहज व्यक्ति है। गेंदबाजी कोच (मुख्य कोच स्टीफन) फ्लेमिंग इसमें होंगे और हर कोई इसमें होगा, हर कोई राय देगा लेकिन वह उठेगा और चला जाएगा। उसे ( धोनी ) लगता है कि वह मैदान पर बल्लेबाज या खिलाड़ी का आकलन कर लेगा। वहीं दूसरी ओर एक व्यक्ति के आकलन के लिए इतना डाटा मौजूद है। इसलिए डाटा और सहजता के बीच लाइन बनाना काफी मुश्किल है।”

ये भी पढ़े : धोनी ने जब एक दिग्गज खिलाड़ी को CSK में नहीं किया था शामिल कहा, ‘टीम को कर देगा बर्बाद’

बता दें कि आईसीसी विश्वकप 2019 के बाद से धोनी क्रिकेट के मैदान से दूर चल रहे हैं। ऐसे में 19 सितंबर से यूएई में होने वाले आईपीएल में फैन्स एक बार फिर धोनी को अपने पुराने रंग में बल्लेबाजी करते देखना चाहेंगे।

कोरोना से जंग : Full Coverage




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close