मध्य प्रदेश

Bhopal : डिप्टी सेक्रेटरी लखन टेकाम की मौत का रहस्य बरकरार, शॉर्ट पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नहीं हुआ खुलासा

पुलिस को आशंका है कि मौत का कारण हार्ट अटैक भी हो सकता है.

बताया जा रहा है कि लखन टेकाम (Lakhan Tekam) कई दिन से ड्यूटी पर नहीं गए थे और दो दिन से उन्होंने खाना भी नहीं खाया था.

भोपाल. भोपाल में मंत्रालय (mantralay) में डिप्टी सेक्रेटरी लखन टेकाम की संदिग्ध हालात में मौत का रहस्य बरकरार है. बुधवार को आई शार्ट पीएम रिपोर्ट में मौत का कोई भी स्पष्ट कारण नहीं सामने नहीं आया है. अब बिसरा जांच के बाद ही टेकाम की मौत (death) का कारण पता चल सकेगा. टेकाम की लाश उनके घर में मिली थी. पत्नी से अनबन के कारण दोनों एक ही घर में अलग-अलग फ्लोर में रहते थे.

ये घटना भोपाल के बाग सेवनिया इलाके में हुई. तीन दिन पहले बाग मुगालिया निवासी लखन टेकाम की लाश घर में मिली थी. अपर कलेक्टर लखन मंत्रालय में उप सचिव अनुसूचित जाति कल्याण के पद पर कार्यरत थे. कमरे से बदबू आने पर उनकी पत्नी ज्योति ने दरवाजा खटखटाया तो अंदर से कोई जवाब नहीं आया. पड़ोसियों की मदद से उन्होंने दरवाजा तोड़ा तो अंदर बेड पर लखन मृत हालत में पड़े थे.पुलिस ने आशंका जताई थी कि अधिकारी की मौत हार्ट अटैक से हुई होगी. लेकिन बुधवार को मिली शार्ट पीएम रिपोर्ट में मौत का कारण स्पष्ट नहीं आया है. इस पर बिसरा प्रिजर्व किया गया है. बिसरा जांच के बाद ही मौत के कारणों का खुलासा होगा. टेकाम के शरीर पर किसी तरह के चोट के निशान नहीं मिले हैं. शव तीन-चार दिन पुराना बताया गया है.

ये है पूरा मामला
बाग सेवनिया थाना प्रभारी संजीव चौकसे ने बताया कि लखन सिंह टेकाम मंत्रालय में अपर कलेक्टर के पद पर थे. रक्षाबंधन के बाद से वह ड्यूटी पर नहीं गए थे. उनकी पत्नी ज्योति ने घर की पहली मंजिल पर उन्हें मृत हालत में पाया. परिवार के बयान के अनुसार लखन सिंह टेकराम शराब पीने के आदी थे. उन्होंने दो दिन से खाना भी नहीं खाया था. घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव बरामद कर पीएम के लिए भेजा. चौकसे ने बताया कि शॉर्ट पीएम रिपोर्ट आने पर मौत के कारणों का खुलासा होगा. फिलहाल पुलिस का मानना है उनकी  मौत हार्टअटैक से हो सकती है. पुलिस ने मर्ग कायम कर मामले की जांच शुरू कर दी है.

पति-पत्नी में था विवाद
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि लखन और उनकी पत्नी के बीच काफी दिन से विवाद चल रहा था. इस वजह से पत्नी अपने मूकबधिर बच्चे के साथ ग्राउंड फ्लोर और पति फर्स्ट फ्लोर में रहते थे. उनके बीच बातचीत भी नहीं होती थी. पत्नी खाने की थाली दरवाजे के बाहर रख देती थीं, जिसे अधिकारी उठा लेते थे. दो दिन से लखन ने खाने की थाली भी नहीं उठाई थी. इसके बाद जब पत्नी ने लखन का मोबाइल फोन लगाया, जो बंद था. इसके बाद उन्होंने दरवाजा खटखटाया. लेकिन अंदर से कोई जवाब नहीं आया. पड़ोसियों की मदद से उन्होंने दरवाजा खुलवाया. अंदर जाकर देखा तो लखन मृत हालत में पड़े थे.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close