उज्जैन न्यूज़राजनीति

सीएम के उदघाटन के अगले ही दिन आईसीयू में लगा ताला

कोरोना मरीजो के उपचार के लिए माधव नगर में 20 बेड का तैयार किया गया था आईसीयू - 1.5 करोड़ की लागत से हुआ निर्मित

User Rating: Be the first one !

कोरोना के गंभीर मरीजों के उपचार हेतु राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा तैयार की गई 155.78 लाख रुपये की लागत से बनी अत्याधुनिक आईसीयू का कल दोपहर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शासकीय माधव नगर अस्पताल में लोकार्पण किया था। लोकार्पण के बाद जब मुख्यमंत्री रवाना हुए तभी हॉस्पिटल प्रशासन ने आईसीयू का ताला लगा दिया। इसका कारण डॉक्टर स्टाफ नर्स की पदस्थी नहीं होना रहा।

https://youtu.be/d56kHiVc0Bw

अभी तक शासकीय माधव नगर हास्पिटल में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आईसीयू सहित सभी वार्डों में जो उपचार चल रहा था उस उपचार के दौरान मरीज की गंभीर स्थिति को लेकर उसे अत्याधुनिक उपकरणों के अभाव में रैफर करना पड़ रहा था। इस कमी को देखते हुए कलेक्टर आशीष सिंह की पहल पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने अपनी ओर से राशि आवंटित करके 20 बिस्तरों वाले अत्याधुनिक आईसीयू के निर्माण की अनुमति दी थी। मिशन के निर्देशानुसार आईसीयू में अत्याधुनिक उपकरण लगाये गये ताकि गंभीर कोरोना मरीज को आरडी गार्डी या अमलताश रैफर न करना पड़े। यह बात देखने में आई थी कि कोरोना पीडि़त गंभीर मरीजों को रैफर करने के दौरान ए-बुलेंस में ही मौत हो गई थी। जो अत्याधुनिक आईसीयू तैयार की गई उसमें संसाधन तो जुटा लिये गये लेकिन डॉटर्स और वर्किंग स्टाफ की व्यवस्था सीएमएचओ कार्यालय नहीं कर पाया। यही कारण रहा कि कल उद्घाटन के बाद आईसीयू में ताले लगाना पड़े। हास्पिटल प्रभारी डॉ. भोजराज शर्मा के अनुसार आईसीयू के लिये एमडी मेडिसीन, एमडीएनेसथेसिया, एमडी छाती रोग विशेषज्ञ चाहिये। इसके अलावा प्रशिक्षित नर्सिंग स्टाफ की आवश्यकता होती है। इस बारे में पूर्व में सीएमएचओ कार्यालय को पत्र लिखकर अवगत करा दिया गया था। जैसे ही स्टाफ मिलेगा आईसीयू चालू कर दिया जायेगा।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close