मध्य प्रदेश

मध्य प्रदेश के ईमानदार टैक्सपेयर्स होंगे सम्मानित, CM शिवराज फिर शुरू करेंगे भामाशाह योजना

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कर चोरी करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए हैं.

सीएम शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने निर्देश दिए कि ईमानदार टैक्सपेयर्स को सम्मानित करने की भामाशाह योजना (Bhamashah Yojana) फिर शुरू की जाए. सीएम के मुताबिक ईमानदारी से कर चुकाने वाले लोगों को प्रोत्साहन देना भी जरूरी है.

भोपाल. मध्य प्रदेश में ईमानदार टैक्सपेयर्स (Honest Taxpayers) को सम्मानित करने की भामाशाह योजना (Bhamashah Yojana) को एक बार फिर एक्टिव किया जाएगा. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने गुरुवार को हुई एक समीक्षा बैठक में इस सिलसिले में निर्देश जारी किए हैं. शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए राजस्व प्राप्तियां आवश्यक हैं, इनमें वृद्धि होना चाहिए. राजस्व प्राप्तियों की वर्तमान स्थिति में सुधार के लिए मंत्री विभागीय अधिकारियों से हर हफ्ते समीक्षा करें. मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि ईमानदार टैक्सपेयर्स को सम्मानित करने की भामाशाह योजना फिर शुरू की जाए. सीएम के मुताबिक ईमानदारी से कर चुकाने वाले लोगों को प्रोत्साहन देना भी जरूरी है. बीते साल इस योजना पर ध्यान न दिए जाने से करदाता निरुत्साहित हो गए हैं. ज्यादा टैक्स जमा करने वालों का सम्मान होने से टैक्स जमा करने के लिए सभी प्रेरित होते हैं. मुख्यमंत्री ने इस साल योजना का प्रभावी क्रियान्वयन किए जाने के निर्देश दिए हैं.

अब नियमित राजस्व समीक्षा

कोरोना की वजह से प्रदेश की वित्तीय स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह तय किया है कि अब राजस्व प्राप्ति के सिलसिले में नियमित समीक्षा होगी. 15 दिन बाद फिर बैठक की जाएगी. सीएम ने गुरुवार को हुई समीक्षा में वाणिज्यिक कर, आबकारी, वन, खनिज, ऊर्जा, परिवहन, स्टांप एवं पंजीयन आदि विभागों से संबंधित करों की प्राप्ति के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त की. मुख्यमंत्री ने कहा कि कर चोरी करने वालों के खिलाफ वैधानिक कार्रवाई की जाए.

ये भी पढ़ें: Rajasthan Crisis: सतीश पूनिया का बड़ा बयान, CM गहलोत को अपने ही विधायकों पर भरोसा नहींकोरोना से पूरा दफ्तर न करें बंद

सीएम शिवराज ने राजस्व संग्रहण के पूरे प्रयास हर स्थिति में करने के लिए कहा है. मुख्यमंत्री ने कहा कि कोशिश हो कि बीते साल की स्थिति में तो आ ही जाएं. अगर राजस्व संग्रहण से जुड़े शासकीय विभागों के मुख्यालय और फील्ड के किसी भी दफ्तर में कोरोना पॉजिटिव रोगी पाया जाता है तो इस स्थिति में पूरा कार्यालय बंद करने की आवश्यकता नहीं है. एक दिन कार्यालय बन्द कर आवश्यक सेनेटाइजेशन और अन्य प्रोटोकाल के पालन के साथ राजस्व कलेक्शन की गतिविधियां जारी रखी जाएं. कार्यालय पूरी क्षमता के साथ कार्य करें. मुख्यमंत्री ने कहा कि आर्थिक गतिविधियों को रोकने का कोई औचित्य नहीं है. पुरानी रिकवरी करते हुए अनियमित्ताओं पर नियंत्रण के प्रयास किए जाएं.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close