विदेश

‘भारतीयता की ताकत’ को मंत्र बनाकर जीत की राह पर बढ़ रही हैं कमला हैरिस

कैलिफोर्निया. डेमोक्रेटिक पार्टी (Democratic Party) के ​लिए उपराष्ट्रपति (Vice President) पद की उम्मीदवार कमला हैरिस (Kamla Harris) अमेरिका में रह रहे भारतीयों के बीच उनसे मतदान करने की अपील को लेकर जा रही हैं. वह अपने भारत से जुड़े किस्सों को साझा कर रही हैं. वह अपनी मां, बहन और नाना के बारे में खूब बातें कर रही हैं. इसी क्रम में उन्होंने बताया कि उनके नाना पी.वी. गोपालन ने दशकों तक भारत सरकार में अपनी सेवाएं दी थीं. रिटायरमेंट के बाद वे तत्कालीन मद्रास (अभी चेन्नई) के समुद्र तटों पर घंटों तक नावों को देखा करते थे. दोस्तों से बातें किया करते थे.

कमला हैरिस अपने नाना को कुछ इस तरह याद करती हैं

कमला हैरिस अपनी भारत यात्राओं को कई तरह से याद कर रही हैं. हैरिस ने 2018 में एक भारतीय-अमेरिकी समूह को सम्बोधित करते हुए बताया था कि मुझे अपने नाना की वे कहानियां आज भी याद हैं जिनमें लोकतंत्र के महत्व के बारे में बात किया करते थे. हालांकि कमला हैरिस को एक अश्वेत महिला के रूप में उनके अनुभवों से ज्यादा उनकी भारतीय विरासत से जोड़कर ज्यादा देखा समझा गया है.

नाना के पारंपरिक मूल्यों को तोड़ने की चर्चा करती हैं कमलाअमेरिकी उप-राष्ट्रपति पद के लिए उनकी राह उनकी भारतीय मूल की मां, उनके भारतीय नाना और उनके विशाल भारतीय परिवार के मूल्यों द्वारा निर्मित है. भारतीयता की यह शक्ति कमला को 8,000 मील की दूरी पर होने के बाद भी जीवन संघर्ष की इस कठिन राह पर भी आगे बढ़ने और जीतने की प्रेरणा देती रही है. कमला हैरिस के नाना ने अपने युग की रूढ़िवादी मान्यताओं को तोड़कर एक प्रगतिशील दृष्टिकोण अपनाते हुए महिलाओं को समर्थन दिया, विशेषकर शिक्षा के क्षेत्र में उनका नजरिया बहुत अलग था. यही कारण है उन्होंने कमला हैरिस की माँ श्यामला गोपालन पर भरोसा किया और वे 1950 के दशक के अंत में अमेरिका आई और 2009 में कैंसर से मरने से पहले तक एक स्तन कैंसर शोधकर्ता के रूप में अपना करियर बनाया.

मां के परिवार से रही कमला की नजदीकियां

कमला हैरिस अपनी माँ के परिवार वालों के काफी करीब रही हैं. उनके मामा मामी मौसी मौसा आदि भारत में बैठ कर सैन फ्रांसिस्को, सैक्रामेंटो या वाशिंगटन में लड़ी गई उनकी लड़ाइयों के बारे घंटों बातें कर सकते हैं. नई दिल्ली में रह रहे कमला हैरिस के एक अंकल बालचंद्रन लगभग 15 साल पहले कैलिफोर्निया में हैरिस के घर गए थे जब कमला सैन फ्रांसिस्को की जिला अटॉर्नी थीं और एक पुलिस अधिकारी की हत्या के आरोपी व्यक्ति के लिए मौत की सजा का विरोध कर रही थीं.

मौत की सजा को वह गलत मानती हैं

मौत की सजा को लेकर उनका रवैया अलग रहा है. वे उच्च-स्तरीय और व्यावहारिक दोनों स्तरों पर मृत्युदंड को दोषपूर्ण मानती हैं. इसमें पहली समस्या नस्लीय असमानता और दूसरा मुकदमा लड़ने के लिए पैसे का अभाव. उन पर मुकदमा वापिस लेने का पुलिस अधिकारियों और राज्य के कुछ शीर्ष राजनेताओं की तरफ दबाव भी रहा लेकिन वे अपने फैसले पर अटल रहीं. बाद में कमला हैरिस ने कैलिफोर्निया के अटॉर्नी जनरल के पद की दौड़ के लिए अपनी मौसी सरला गोपालन को चेन्नई में एक हिंदू मंदिर में उनके लिए नारियल तोड़ने के लिए कहा और उनकी आंटी ने उनके लिए मंदिर में 108 नारियल चढ़ाए. कमला हैरिस वह चुनाव जीती भी गईं.

19 वर्ष की उम्र में कमला की मां बर्कले पहुंची थीं

कमला हैरिस की माँ सुश्री गोपालन केवल 19 वर्ष की थी जब वह बर्कले में पहुंची उस समय कुछ भारतीय संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते थे. उनकी माँ के बहुत भारतीय मित्र नहीं थे. जल्द ही सुश्री गोपालन नागरिक अधिकार आंदोलन से जुड़ गईं जहाँ वे जमैका के एक स्नातक छात्र डोनाल्ड हैरिस से मिली जो वामपंथी आर्थिक सिद्धांत में विशेषज्ञ थे. जब इन दोनों ने शादी की तो हैरिस के नाना नानी ने उनके माँ पिताजी को आशीर्वाद भी दिया. उनकी नानी इस शादी से इतनी खुश और गर्व महसूस कर रही थीं कि उन्होंने द इलस्ट्रेटेड वीकली में शादी की घोषणा की जो उस समय की एक चर्चित पत्रिका हुआ करती थी.

कमला जब 7 वर्ष की थीं तब मां ने दी थी तलाक की अर्जी

इस दंपति को जल्द ही दो बेटियां हुईं पहली कमला जिसका संस्कृत में अर्थ है “कमल” और दूसरी बेटी का नाम रखा माया जिसका अर्थ है भ्रम. लेकिन कमला के माँ पिता का रिश्ता बहुत लंबा नहीं चला. जब कमला हैरिस 7 वर्ष की थी तब उनकी माँ ने तलाक के लिए अर्जी दी. सुश्री गोपालन के लिए अपनी भारतीय विरासत को बनाए रखना महत्वपूर्ण था इसीलिए उन्होंने अपनी बेटियों को हिंदू पौराणिक कथाओं और दक्षिण भारतीय व्यंजनों जैसे डोसा और इडली से परिचित कराया. कमला हैरिस की माँ उन्हें लेकर हिन्दू मंदिर भी जाया करती थीं जहाँ वे कभी कभार भजन भी गाया करती थी.

अपनी पहचान को लेकर सहज हो गईं हैं कमला: कार्तिक

एशियाई-अमेरिकी समुदायों पर ध्यान केंद्रित करने वाले कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय रिवरसाइड के एक राजनीतिक वैज्ञानिक कार्तिक रामकृष्णन ने कहा कि मुझे लगता है कि अपने राष्ट्रपति अभियान के दौरान वह अपनी पहचान के बारे में बात करने में अधिक सहज हो गईं हैं.

कश्मीर को लेकर चिंता व्यक्त की

भारत में उनको लेकर मिश्रित प्रतिक्रियाएं देखी जा रही हैं. सुश्री हैरिस ने कश्मीर के बारे में चिंता व्यक्त की. उन्होंने भारत के विदेश मंत्री की आलोचना की जिन्होंने एक भारतीय-अमेरिकी कांग्रेस सदस्या से मिलने से इनकार कर दिया जो कश्मीर के बारे में भारतीय सरकार के प्रति आलोचनात्मक नजरिया रखती थीं.

ये भी पढ़ें: रूस ने कोरोना वैक्सीन बनाया, फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो ने कहा- मुझपर करो ट्रायल

चीन और रूस के खिलाफ चार देशों के दौरे पर निकले अमेरिकी विदेशमंत्री पोम्पिओ

कश्मीर भारत के सबसे कटु विभाजनकारी मुद्दों में से एक रहा है. भारत के लेफ्ट से जुड़े लोगों ने कमला हैरिस की उम्मीदवारी का जश्न मना रहे हैं जबकि दक्षिणपंथी गट इसकी आलोचना कर रहा है.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close