मध्य प्रदेश

पटना: मेडिकल-इंजीनियरिंग परीक्षा पास कराने वाले गैंग का खुलासा, UP से लेकर महाराष्ट्र तक में करते थे सेटिंग

पटना. हरियाणा पुलिस की मदद से बिहार की पटना पुलिस (Patna Police) ने शहर के बुद्धा काॅलाेनी थाना इलाके में स्थित विंध्याचल अपार्टमेंट में छापेमारी कर दूसरे काे बैठाकर मेडिकल-इंजीनियरिंग परीक्षा पास कराने वाले एक बड़े साॅल्वर गैंग (Fraud Gang) का भंडाफाेड़ किया है. पुलिस ने दबिश देकर छह साॅल्वर्स काे गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इस गैंग के पास से नकद, 100 से अधिक प्रवेश पत्र, फर्जी आधार कार्ड, लैपटाप, सीपीयू, कंप्यूटर समेत कई दस्तावेज व इनके माेबाइल आदि बरामद किए हैं, हालांकि इस गाेरखधंधा का सरगना फिलहाल फरार है और पुलिस उसे सरगर्मी से तलाश कर रही है.

इनकी हुई गिरफ्तारी

पकड़े गये सभी लोग सरकारी नौकरी दिलाने, मेडिकल, इंजीनियरिंग आदि की प्रतियोगी परीक्षाओं के नाम पर ठगी करने वाले सॉल्वर गैंग के सक्रिय सदस्य हैं. गिरफ्तार हाेने वालाें में प्रशांत कुमार, रमेश, सौरभ सुमन, उज्जवल उर्फ गजनी व दो अन्य शामिल हैं. इसमें सौरभ भागलपुर का है. पुलिस इनके पास से बरामद माेबाइल व लैपटाॅप काे खंगालने में जुटी है. सूत्राें के अनुसार यह बहुत बड़ा गैंग हैं. इसके तार बिहार, राजस्थान, यूपी, मध्यप्रदेश, हरियाणा, बंगाल, दिल्ली व महाराष्ट्र से भी जुड़े हैं. बुद्धा काॅलाेनी थाना में इनके खिलाफ केस दर्ज किया गया है.

हरियाणा पुलिस के साथ पटना पुलिस ने की छापेमारीदरअसल इस गैंग में शामिल शातिराें ने हरियाणा में बेराेजगाराें से माेटी रकम लेकर उन्हें चपत लगाई थी. उसके बाद हरियाणा एसटीएफ ने जब इस गिराेह के माेबाइल व इस गिराेह से जुड़े कुछ लाेगाें से पूछताछ की ताे पता चला कि ये लाेग बुद्धा कॉलोनी थाना के विध्यांचल अपार्टमेंट में बड़े स्तर पर मेडिकल प्रवेश परीक्षा में सेटिंग व सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने का गौरखधंधा चला रहे हैं, उसके बाद हरियाणा पुलिस पटना पहुंची और पटना पुलिस की स्पेशल टीम के साथ इस अपार्टमेंट के थर्ड फ्लाेर पर शुक्रवार की रात काे दबिश दी और वहां से 6 को गिरफ्तार किया़. पूछताछ में पुलिस का सुराग मिला है कि बिहार में इस गिरोह का मास्टरमाइंड अतुल व है जो बिहार को लीड करता है.

पटना के बोरिंग रोड में बना रहे थे ऑफिस

इस गिराेह के सदस्यों ने बोरिंग रोड स्थित एक कॉम्पलेक्स में अपना ऑफिस बनाया था. इसको रमेश और उज्जवल चलाते थे. गैंग के सदस्य का टॉरगेट बोरिंग रोड के आसपास कोचिंग संस्थानों में विभिन्न प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र हाेते थे. इन छात्राें काे झांसे में डालकर नौकरी या फिर मेडिकल, इंजीनियरिंग परीक्षाओं में सेटिंग कर प्रवेश दिलाते थे. यही नहीं पुलिस का यह भी पता चला है कि यह गिराेह कई प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रश्न पत्र आउट करवाकर, सॉल्वर बिठाकर उम्मीदवारों से मोटी रकम लेकर प्रदेश के विभिन्न सेंटर पर काम करते थे.

महाराष्ट्र के औरंगाबाद मेडिकल पेपर लीक में था इस गिराेह का हाथ

पूछताछ में यह भी खुलासा हुआ है कि 2015 में महराष्ट्र के औरंगाबाद में हुए मेडिकल प्रवेश परीक्षा के पेपर लीक करने में भी इसी गिराेह का हाथ था. उसके बाद से वहां की इन्हें तलाश कर रही थी. गिरफ्तार 6 लोगों में से एक सौरव सुमन एक रसूखदार का बेटा बताया जा रहा है़. पटना में चल रहे गैस पाइप लाइन में नौकरी दिलाने के नाम पर भी करीब दो दर्जन से अधिक छात्रों से इन शातिराें मोटी रकम वसूल किये हैं. इस गिरोह के लोग विभिन्न परीक्षाओं में दूसरे छात्र को बैठाकर, पेपर आउट कराने के बाद इसे साॅल्व कराने के बाद इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से नकल कराने व आंसर शीट को दूसरे स्थान पर भरे जाने की भी सेटिंग करते थे.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close