विदेश

जो बाइडेन बोले- H-1B वीजा सिस्टम में करेंगे सुधार, ग्रीन कार्ड कोटा होगा खत्म

प्रतीकात्मक तस्वीर.

नवंबर में होने वाले अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के मद्देनजर जो बाइडेन (Joe Biden) ने वादा किया है कि वह यदि राष्ट्रपति बन जाते हैं तो एच-1बी वीजा प्रणाली और ग्रीन कार्ड (Green Card) पर महत्वपूर्ण कदम उठाएंगे.

वाशिंगटन. अमेरिका के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बाइडेन (Joe Biden) ने वादा किया है कि यदि वह चुनाव जीतते हैं तो एच-1बी वीजा (H-1B Visa) प्रणाली में सुधार करेंगे. उनके प्रचार अभियान में कहा गया है कि यदि नवंबर के आम चुनाव में उन्हें सफलता मिलती है तो वे ग्रीन कार्ड के लिए देशों के कोटा को भी समाप्त कर देंगे. माना जा रहा है कि बाइडेन ने प्रभावशाली भारतीय-अमेरिकी समुदाय को लुभाने के लिए ये वादे किए हैं. एच-1बी वीजा गैर-आव्रजक वीजा है। इसके जरिए अमेरिकी कंपनियां विशेषज्ञता वाले पदों पर विदेशी पेशेवरों की नियुक्ति कर सकती हैं. कंपनियां हर साल भारत और चीन के हजारों पेशवरों की नियुक्ति इस वीजा के जरिए करती हैं. भारत के 74वें स्वतंत्रता दिवस पर शनिवार को भारतीय-अमेरिकियों पर जारी एक नीति दस्तावेज में बाइडेन के प्रचार अभियान में परिवार आधारित आव्रजन प्रणाली को समर्थन देने और धार्मिक कार्य वीजा की प्रक्रिया को सुसंगत बनाने का भी वादा किया गया है.

बाइडेन ने कहा है कि उनका प्रशासन नफरत को रोकने के लिए भी कदम उठाएगा. साथ धार्मिक स्थलों की सुरक्षा से जुड़ी चिंता को भी दूर करेगा. विविधता और भारतीय-अमेरिकियों के योगदान को सम्मान दिलाएगा. यह पहला मौका है कि डेमोक्रेट के किसी राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार ने भारतीय-अमेरिकियों पर विशिष्ट रूप से कोई नीति दस्तावेज पेश किया है. वहीं, अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी से इस पद के उम्मीदवार जो बाइडेन के प्रचार अभियान ने शनिवार को कहा कि उनका प्रशासन भारत-अमेरिका संबंधों को लगातार मजबूत करने को ”उच्च प्राथमिकता” देगा. भारतीय-अमेरिकी नागरिकों से संबंधित एक महत्वपूर्ण नीतिगत दस्तावेज में बाइडेन के प्रचार अभियान ने कहा कि उनका (बाइडेन का) मानना है कि दक्षिण एशिया में, एक देश की सीमा से दूसरे देश में या किसी अन्य रूप में आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता.

ये भी पढ़ें: US Election: जो बाइडेन बोले- खतरों से निपटने में भारत के साथ खड़ा रहूंगा

चीन सहित कोई भी देश नहीं दे सकेगा धमकीप्रचार अभियान ने कहा कि बाइडेन प्रशासन नियम आधारित और स्थिर हिंद-प्रशांत क्षेत्र का समर्थन जारी रखने पर काम करेगा, जिसमें चीन सहित कोई भी देश अपने पड़ोसी देश को धमकी नहीं दे सकेगा. बाइडेन के प्रचार अभियान ने कहा, ”बाइडेन लंबे समय से चली आ रही अपनी इस मान्यता को पूरा करेंगे कि भारत और अमेरिका स्वाभाविक साझेदार हैं. बाइडेन प्रशासन अमेरिका-भारत संबंधों को मजबूत करना जारी रखने को उच्च प्राथमिकता देगा.”




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close