मध्य प्रदेश

गुना में दलित किसान से मारपीट केस: पहले हटाया, अब IAS विश्वनाथन को दिया MD का तोहफा

15 जुलाई का यह मामला है. (FILE PHOTO)

राज्य सरकार ने आदेश जारी करते हुए प्रदेश शासन में उप सचिव और 2008 बैच के आईएएस (IAS) अधिकारी एस विश्वनाथन को पर्यटन विकास निगम का एमडी बनाया है. यह वही अधिकारी है जिन्हें खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हटाया था.

भोपाल. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के गुना में दलित किसान (Farmer) के साथ मारपीट करने के मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कलेक्टर एस विश्वनाथन और एसपी (SP) को तत्काल प्रभाव से हटा दिया था, लेकिन कुछ ही दिन बाद अब सरकार ने विश्वनाथन को एमडी (MD) का तोहफा दिया है. सरकार ने विश्वनाथन को पर्यटन विकास निगम का एमडी बनाया है. राज्य सरकार ने आदेश जारी करते हुए प्रदेश शासन में उप सचिव और 2008 बैच के आईएएस (IAS) अधिकारी एस विश्वनाथन को पर्यटन विकास निगम का एमडी बनाया है. यह वही अधिकारी है जिन्हें खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हटाया था.

घटना पर जमकर सियासत

विश्वनाथन गुना के कलेक्टर थे और उनके कार्यकाल के दौरान दलित किसान परिवार के साथ पुलिस ने मारपीट की थी. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले में तत्काल संज्ञान लिया था और कलेक्टर के साथ गुना एसपी को भी हटाया था. गुना की इस घटना पर जमकर सियासत हुई थी, लेकिन अभी घटना को ज्यादा समय नहीं हुआ है और सरकार ने विश्वनाथन को पर्यटन विकास निगम की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी है.

ये है पूरा मामलादलित किसान परिवार से मारपीट का मामला गुना जिले में 15 जुलाई को सामने आया था. गुना जिले के जगनपुर में कॉलेज के लिए आरक्षित जमीन पर स्थानीय भू-माफिया गब्बू पारदी द्वारा अवैध कब्जा किया गया था. कब्जे की जमीन को गब्बू पारदी ने बटाई पर राजकुमार अहिरवार को दे रखा था. कब्जा हटाने की कार्रवाई के दौरान राजकुमार अहिरवार और उसकी पत्नी ने कार्रवाई का विरोध किया. मौके पर मौजूद पुलिस कर्मचारियों ने दोनों को बेरहमी से पीटा. इस पूरी घटना का वीडियो वायरल हुआ. पुलिस की पिटाई के बाद राजकुमार अहिरवार एवं उसकी पत्नी ने जहर खा लिया.

(मनोज राठौर)




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close