विदेश

खुशखबरी! आखिर हो गई Corona को रोकने वाले 21 ड्रग्स की पहचान

कॉन्सेप्ट इमेज.

संडे बर्नहेम प्रीबिस इम्युनिटी एंड पैथोजेनेसिस प्रोग्राम के निदेशक एवं अध्ययन के वरिष्ठ लेखक सुमित चंदा ने कहा कि रेमेडिसिविर अस्पताल में मरीजों के लिए स्वस्थ होने के समय को कम करने में सफल साबित हुई है, लेकिन यह दवा (Medicine) हर किसी के लिए कारगर नहीं है.

लॉस एंजिलिस. कोरोना वायरस की वैक्सीन (Coronavirus vaccine) की खोज में लगी दुनिया को एक और अच्छी खबर मिली है. वैज्ञानिकों ने ऐसे 21 ड्रग्स की पहचान की है जो कोरोना वायरस को प्रतिरूप बनाने, मतलब अपनी संख्या बढ़ाने से रोकने में मददगार हैं. लैब जांच में इनकी पहचान की गई है, आगे चलकर इनमें से किसी एक से या इनके मिश्रण से कोरोना के इलाज के बारे में सोचा जा सकता है. इस पर रिसर्च (Research) में कई वैज्ञानिक शामिल हैं. इसमें से कुछ सैनफर्ड बुरनम प्रीबिस मेडिकल डिस्कवरी इंस्टिट्यूट के हैं, जो अमेरिका में है. इसमें कुछ वैज्ञानिक भारतीय मूल के भी हैं. इसके स्टडी नेचर पत्रिका में छपी है. पाया गया कि 21 ड्रग्स वायरस को प्रतिरूप बनाने से ब्लॉक करते हैं. जो ड्रग्स वायरस को प्रतिरूप बनाने से रोकते हैं उनमें 13 पहले ही क्लीनिकल ट्रायल में हैं.

पत्रिका में इन ड्रग्स का मिक्स रूप यानी कंपाउंड रूप इस्तेमाल करने की भी बात है, जैसे कहा गया है कि चार कंपाउंड ऐसे हैं जिनको रेमडेसिवीर के साथ मिलाकर यूज किया जा सकता है. रेमडेसिवीर को पहले से कोरोना के इलाज में कारगार बताया जा रहा है. इसकी मदद से कोरोना मरीज का रिकवरी टाइम सुधरा था, मतलब मरीज जल्दी हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुए. फिलहाल इन 21 कमाउंड की टेस्टिंग छोटे जानवरों के मॉडल्स पर हो रही है. अगर स्टडी कारगर लगी तो वैज्ञानिक यूएस फूड ऐंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) से क्लीनिकल ट्रायल की इजाजत मांगेंगे.

ये भी पढ़ें: चीन की नई चाल से टेंशन में भारत, म्यांमार में आतंकियों को सप्लाई कर रहा हथियार

हर किसी के लिए कारगर नहीं ये दवासंडे बर्नहेम प्रीबिस इम्युनिटी एंड पैथोजेनेसिस प्रोग्राम के निदेशक एवं अध्ययन के वरिष्ठ लेखक सुमित चंदा ने कहा, ‘रेमेडिसिविर अस्पताल में मरीजों के लिए स्वस्थ होने के समय को कम करने में सफल साबित हुई है, लेकिन यह दवा हर किसी के लिए कारगर नहीं है. चंद्रा ने कहा, सस्ती, प्रभावी, और आसानी से उपलब्ध दवाओं को खोजने के लिए तत्परता बनी हुई है जो रेमेडिसिविर के उपयोग का पूरक बन सकती है.’




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close