विदेश

कोविड-19 के उपचार और रोकथाम के लिए एंटीबॉडी मेडिसीन की जांच में जुटी दवा कंपनियां

कोविड-19 के उपचार और रोकथाम के लिए एंटीबॉडी दवा की जांच में जुटी दवा कंपनियां. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के टीके के आने में अभी कई महीने लगने के बीच कंपनियां अब एक एक नयी चीज यानी एक ऐसी दवा के परीक्षण में जुट गयी जो इस वायरस को नष्ट करने के लिए एंटीबॉडी (Antibody) बनाएगी.

वाशिंगटन. कोरोना वायरस (Coronavirus) के टीके के आने में अभी कई महीने लगने के बीच कंपनियां अब एक एक नयी चीज यानी एक ऐसी दवा के परीक्षण में जुट गयी जो इस वायरस को नष्ट करने के लिए एंटीबॉडी (Antibody) बनाएगी.  एंटीबॉडी ऐसा प्रोटीन है, जिसे शरीर संक्रमण के गिरफ्त में आने के बाद बनाता है. वह वायरस के साथ जुड़ जाता है और उसे नष्ट कर देता है. टीका दूसरे सिद्धांत पर काम करता है.

एंटीबॉडी बनाने में एक या दो महीने लग सकते हैं

टीकाकरण या संक्रमण के बाद टीके को सबसे प्रभावी एंटीबॉडी बनाने में एक या दो महीने लग सकते हैं. प्रयोग से गुजर रहीं दवाइयां विशिष्ट एंटीबॉडी के सांद्र संस्करण देकर उस प्रक्रिया को दूर कर देती हैं और उनका प्रयोगशाला और पशुओं पर परीक्षण में बहुत अच्छा असर रहा है. उत्तरी कोरोलिना विश्वविद्यालय के विषाणु विज्ञान डॉ मैरोन कोहेन ने कहा कि किसी टीके को काम करने, एंटीबॉडी के विकास कराने में वक्त लगता है। लेकिन जब आप किसी को एंटीबाडी देते है तो उसे तत्काल सुरक्षा मिल जाती है.

ये भी पढ़ें: Macdonald का पूर्व सीईओ स्टाफ की न्यूड फोटो लोगों से करता था साझा, चलेगा मुकदमापर्यावरणीय तबाही: मॉ​रीशस के तट पर जहाज टूटने की कगार पर, 1,000 मीट्रिक टन तेल का हुआ रिसाव

कमला हैरिस को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाए पर ब्लैक महिलाओं ने किया वेलकम

आर्थिक मंदी की चपेट में ब्रिटेन, वित्त मंत्री ने कहा- बड़े पैमाने पर गई नौकरियां, आगे भी जाएंगी

ऑस्ट्रेलिया: महिला ने मास्क नहीं लगाया, पुलिस ने दीवार पर टिकाया और दबाया गला

कश्मीर मुद्दा: पाकिस्तान ने अमरीका से अपील की, कहा-भारत से कम करा दो तनाव

समझा जाता है कि इन दवाइयों का एक या अधिक महीने तक असर रह सकता है और यह उच्च संक्रमण जोखिम वाले लोगों जैसे डॉक्टरों और कोविड-19 से संक्रमित व्यक्त के परिवार के सदस्यों को तत्काल प्रतिरक्षा प्रदान कर सकती है. ये दवाइयां प्रभावी साबित हेाती हैं और यदि टीका उम्मीद के अनुसार नहीं आ पाता है या सुरक्षा दे पाता है तो इन दवाओं पर व्यापक इस्तेमाल के लिए विचार किया जा सकता है.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close