विदेश

कोरोनावायरस राहत और बेरोजगारी भत्ते पर भ्रामक बयानों को लेकर घिरे ट्रंप

डोनाल्ड ट्रंप अपने भ्रामक बयानों को लेकर घिर गए हैं

कोरोना वायरस राहत (Coronavirus Relief) को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Us President Donald Trump) के कांग्रेस में किसी तरह अपनी बात मनवाने के प्रयासों से सवाल उठ रहे हैं.

ब्रिजवॉटर. कोरोना वायरस राहत (Coronavirus Relief) को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Us President Donald Trump) के कांग्रेस में किसी तरह अपनी बात मनवाने के प्रयासों से सवाल उठ रहे हैं कि अमेरिकी जनता को आर्थिक जीवनरेखा देने का वह जो दावा कर रहे हैं क्या यह वास्तव में हासिल होगी. इसके अलावा इसे लेकर कानूनी चुनौतियां भी सामने आने वाली हैं. डेमोक्रेट सदस्यों (Democratic Members) ने इसे चुनाव से पहले की चाल बताया और कहा कि इसके कारण पहले से धन संकट से जूझ रहे राज्यों पर बोझ और बढ़ेगा.

‘राष्ट्रपति के कार्यकारी आदेशों में कुछ तो गड़बड़ है’

सदन की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने कहा कि आप उन कार्यकारी आदेशों को देखें तो मैं इतना ही कह सकती हूं कि उन्हें नहीं पता कि वह क्या बात कर रहे हैं या फिर वहां कुछ गड़बड़ है.

बेरोजगारी भत्ता कम करने से बढ़ी नाराजगीमहामारी आर्थिक सहायता के अगले पैकेज को लेकर सांसदों से विचार विमर्श के बाद कोई नतीजा नहीं निकलने पर ट्रंप ने कर तथा खर्च नीति को लेकर आगे बढ़ने के लिए राष्ट्रपति को प्राप्त शक्तियों का इस्तेमाल किया. बेरोजगारी भत्ते के मामले में राष्ट्रपति ने दर्शाया कि वह चाहते हैं कि बेरोजगार इससे लाभान्वित हों. लेकिन उनके आदेश में हर हफ्ते 400 डॉलर तक के भुगतान का जिक्र है जबकि इससे पहले तक 600 डॉलर का प्रावधान था.

ये भी पढ़ें: भारतीयों वैज्ञानिकों का दावा, इलेक्ट्रिक कुकर में N-95 मास्क को करें रोगाणु मुक्त

पाकिस्तान: अफगानिस्तान सीमा के पास बम विस्फोट में पांच की मौत, 10 घायल

ट्रंप ने कहा कि इसमें 25 फीसदी योगदान राज्यों को देना होगा जबकि कई राज्य धन संकट से पहले से जूझ रहे हैं. जब संवाददाताओं ने रविवार रात को इस बारे में उनसे सवाल किया तो उन्होंने कहा कि पूरा भुगतान संघीय सरकार से करवाने के लिए राज्य आवेदन दे सकते हैं, हालांकि इस बारे में फैसला राज्यों के आधार पर लिया जाएगा.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close