टेक्नोलॉजी

इस स्मार्टफोन कंपनी ने की बड़ी गलती! लीक कर दिया हज़ारों यूज़र्स का Email ID

Photo: OnePlus 7

कंपनी की छोटी सी गलती से यूज़र्स का डेटा पब्लिक डोमेन में लीक हो गया है, जिससे हज़ारों यूज़र्स के ईमेल ऐड्रेस बाकी कई ग्राहकों के सामने आ गए हैं…

स्मार्टफोन बनाने वाली कंपनी वनप्लस (OnePlus) एक बार फिर यूज़र्स के डेटा लीक को लेकर चर्चा में है. रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी ने अपने यूज़र्स का डेटा पब्लिक कर दिया है. दरअसल कंपनी की छोटी सी गलती से यूज़र्स का डेटा पब्लिक डोमेन में लीक हो गया है, जिससे हज़ारों यूज़र्स के ईमेल ऐड्रेस बाकी कई ग्राहकों के सामने आ गए हैं. जानकारी के लिए बता दें कि पिछले साल नवंबर में भी कंपनी की तरफ से ऐसा ही एक डेटा ब्रीच हुआ था. आइए जानते हैं कैसे लीक हुआ यूज़र्स का पर्सनल डेटा…

कैसे हुई ये गलती?
आमतौर पर रिसर्च स्टडी के लिए कंपनी की ओर से यूज़र्स को एक मास मेल भेजा जाता है, जो कि सेलेक्टेड यूज़र्स को सेंड होता है. ऐसे मेल भेजने में कोई दिक्कत भी नहीं है, क्योंकि इससे कंपनी को यूज़र्स का फीडबैक पता चलता है.

(ये भी पढ़ें- भारत में इतना सस्ता हो गया दुनिया का सबसे पॉपुलर एंड्रॉयड स्मार्टफोन, जानें नई कीमत)ऐसा इस बार भी हुआ कंपनी ने यूज़र्स को माल मेल भेजा, लेकिन यहां गलती ये हुई कि कंपनी ने ग्राहकों के ईमेल आईडी को Bcc वाले जगह में डालने के बजाय कंपनी ने हज़ारों की तादात में ईमेल आईडी को ‘To’ वाले बॉक्स में डालकर सेंड कर दिया. यानी कि जिन्हें भी ये ईमेल मिला वह सभी यूज़र्स बाकियों के ईमेल ऐड्रेस भी देख सकते हैं.

एंड्रॉयड पुलिस की रिपोर्ट मुताबिक इस गलती की वजह से असल में कितने यूज़र्स प्रभावित हुए है इसका पता अभी भी नहीं लग पाया है, लेकिन इनमें से एक ने एंड्रॉयड पुलिस को बताया कि ये संख्या हजारों में है.

(ये भी पढ़ें- 10 हज़ार रुपये सस्ते में मिल रहा है OnePlus का ये 48 मेगापिक्सल 3 कैमरे वाला फोन, मिलेगी 4000mah की बैटरी)

पहले भी लीक हुआ है यूज़र्स का निजी डेटा

पिछले साल नवंबर में हुए ऐसे ही एक डेटा ब्रीच कंपनी की गलती से ग्राहकों के नाम, नंबर, ईमेल, शिपिंग एड्रेस जैसी जानकारियों का खुलासा हुआ था, हालांकि इसमें पासवर्ड और किसी भी तरह के फाइनैशियल स्टेटमेंट का खुलासा नहीं हुआ था. इसके अलावा साल 2018 की जनवरी में भी करीब 40 हज़ार वनप्लस यूज़र्स के क्रेडिट कार्ड से जुड़ी जानकारी लीक हो गई थी. साइट के पेमेंट पेज में ऐड किए गए मैलिशियस कोड की वजह से ऐसा हुआ था.




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close