स्पोर्ट्स

असाधारण हालात में बीसीसीआई ने टी-20 चैलेंज के लिए अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया है : मिताली राज

Image Source : IPLT20.COM
Mithali Raj

भारतीय महिला वनडे क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज टी20 चैलेंज और महिला बिग बैश लीग की तारीखों के टकराव से विदेशी खिलाड़ियों की हताशा समझती है लेकिन उनका मानना है कि बीसीसीआई ने कोरोना वायरस महामारी के बीच असामान्य हालात में चार मैचों के टूर्नामेंट के लिये अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया। 

ऑस्ट्रेलियाई स्टार एलिसा हीली की अगुवाई में विदेशी खिलाड़ियों ने नुमाइशी मैचों की टाइमिंग पर सवाल उठाये चूंकि ये महिला बिग बैश लीग के दौरान ही हो रहे हैं। सितंबर में महिला टीम का इंग्लैंड दौरा रद्द करने के लिये भी भारतीय क्रिकेट बोर्ड की आलोचना हो रही है। 

इस बारे में मिताली ने पीटीआई से कहा ,‘‘ लोग बहुत जल्दी निर्णय तक पहुंच जाते हैं। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली, सचिव जय शाह और आईपीएल संचालन परिषद के प्रमुख बृजेश पटेल का रवैया महिला क्रिकेट को लेकर काफी सकारात्मक रहा है।’’ 

उन्होंने कहा ,‘‘ मेरा निजी तौर पर मानना है कि हमें चैलेंजर ट्राफी खेलने का मौका भी नहीं मिलता क्योंकि आईपीएल भी होगा या नहीं, पता नहीं था। ऐसे में ये मैच स्वागत योग्य हैं।’’ 

हीली, सूजी बेट्स, रशेल हैंस जैसी खिलाड़ियों की नाराजगी को लेकर मिताली ने कहा ,‘‘ मुझे पता है कि कई विदेशी खिलाड़ियों ने टाइमिंग पर सवाल उठाये हैं लेकिन ये हालात सामान्य नहीं है। आम तौर पर आईपीएल अप्रैल मई में होता है और महिला बिग बैश लीग से तारीखों का टकराव नहीं होता।’’

आईपीएल 19 सितंबर से यूएई में खेला जायेगा। वहीं ऑस्ट्रेलिया में महिला बिग बैश लीग 17 अक्टूबर से 29 नवंबर के बीच होनी है दुबई में टी20 चैलेंज मैच एक से 10 नवंबर तक खेले जायेंगे। मिताली ने कहा ,‘‘ भारत में इस समय कोई खेल गतिविधि नहीं हो रही। अभी तक हमने अभ्यास भी शुरू नहीं किया। मेरे अपने राज्य में अभी जिम खुले हैं तो मैच फिटनेस हासिल करने में समय लगेगा। बोर्ड ने हमें वह विंडो दिया है और हमें उसके अनुसार ही तैयारी करनी होगी।’’ 

उन्होंने कहा ,‘‘ आस्ट्रेलिया को अपना कैलेंडर नहीं बदलना पड़ा है लेकिन महामारी के कारण हमें ऐसा करना पड़ा । आईपीएल अप्रैल मई में नहीं हो सका। विदेशी खिलाड़ियों को हालात समझने चाहिये।’’ 

कोरोना से जंग : Full Coverage




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close