स्पोर्ट्स

अब हिंदी में भी जान सकेंगे क्रिकेट के सभी नियम, एमसीसी ने लांच की नई पहल

Image Source : GETTY IMAGES
Cricket 

इंदौर| “क्रिकेट के नियमों का संरक्षक” कहे जाने वाले मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) की आधिकारिक वेबसाइट (lords.org) पर इस खेल के कायदे अब भारत की सबसे ज्यादा बोली और समझी जाने वाली भाषा हिन्दी में भी उपलब्ध हैं। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के पूर्व पैनल अम्पायर राजीव रिसोड़कर ने इन नियमों का अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवाद किया है।

मध्य प्रदेश क्रिकेट संगठन (एमपीसीए) के मानद सचिव संजीव राव ने यहां शुक्रवार को बताया, “एमपीसीए को यह बताते हुए गर्व है कि एमसीसी के बनाये क्रिकेट नियमों (2017 कोड…दूसरा संस्करण 2019) का हिन्दी अनुवाद इस प्रतिष्ठित क्लब की आधिकारिक वेबसाइट पर पहली बार उपलब्ध कराया गया है। यह अनुवाद एमपीसीए के सदस्य राजीव रिसोड़कर ने किया है।”

रिसोड़कर वर्ष 1997 से 2016 के बीच बीसीसीआई के पैनल अंपायर रह चुके हैं। फिलहाल वह बीसीसीआई के अंपायरिंग प्रशिक्षकों के पैनल (लेवल थ्री) में शामिल हैं और पिछले दो दशकों में भारत के कई अंपायरों को प्रशिक्षित कर चुके हैं। रिसोड़कर ने कहा, “पारंपरिक तौर पर क्रिकेट के नियमों की भाषा अंग्रेजी मानी जाती है। मैंने बीसीसीआई के प्रस्ताव पर इन नियमों का हिन्दी में अनुवाद किया ताकि क्रिकेट को लेकर दीवानगी रखने वाले भारत में ये कायदे और ज्यादा लोगों तक पहुंच सकें।”

उन्होंने उम्मीद जतायी कि इस अनुवाद का लाभ भारत के हजारों हिन्दी भाषी अंपायरों और अम्पायरिंग प्रशिक्षुओं को होगा जिन्हें अंग्रेजी समझने में थोड़ी समस्या होती है। क्रिकेट में दिलचस्पी रखने वाले लाखों हिन्दी भाषी भी इससे अपना ज्ञान बढ़ा सकेंगे। रिसोड़कर ने बताया कि क्रिकेट के नियमों का कुल 101 पेज का हिन्दी संस्करण एमसीसी की आधिकारिक वेबसाइट पर पीडीएफ फॉर्म में उपलब्ध है। इसे तैयार करने में उन्हें एक महीना लगा। लंदन स्थित एमसीसी की स्थापना वर्ष 1787 में हुई थी। तब से लेकर अब तक क्रिकेट खेलने के नियमों को बनाने और इनमें किये जाने वाले सभी बदलावों का जिम्मा इसी क्लब के पास है। 

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Cricket News in Hindi के लिए क्लिक करें खेल सेक्‍शन




Source link

Tags

Related Articles

Back to top button
Close