उज्जैन न्यूज़धार्मिक

अनंत चतुर्दशी पर गजानन का हुआ विदाई समारोह

दस दिनों तक गजानन की आराधना का भक्तों को मिला फल

दस दिनों तक गजानन को अपने घरों में विराजित कर भक्ति भाव से उनकी आराधना करने के बाद आज गजानन का विदाई समारोह हो गया और गजानन अपने भक्तों का दुख संकट हर कर ले गए इधर जिला प्रशासन भी गाइडलाइन के नियमों का पालन करवाते सख्त दिखाई दिया कलेक्टर आशीष सिंह और एसपी इंचार्ज स्वयं शहर निरीक्षण पर निकले और शिप्रा नदी रामघाट पर तैनात रहे.

अनंत चतुर्दशी के मौके पर आज घर में विराज गजानन बाबा को विदाई दी जाएगी आज से गजानन बाबा अपने साथ अपने भक्तों के दुख संकट को दूर कर ले जाएंगे जी हां परंपरा अनुसार गणेश चतुर्थी पर्व पर गजानन को घरों और पांडवों में विराजित कर 10 दिन तक उनकी आराधना की जाती हालांकि इस बार कोविड-19 के चलते पांडवों में गजानन की स्थापना पर प्रतिबंध लगाया गया था जिसके चलते भक्तों ने गणेश जी की अपने घरों में उनको विराजित कर 10 दिनों तक उनकी आराधना की आज अनंत चतुर्थी की मौके पर गणेश जी का विदाई समारोह हुआ भक्त गजानन को टू व्हीलर पर भक्ति भाव के साथ उनका विसर्जन करने निकले इस बार प्रशासन ने शिप्रा नदी में गणेश विसर्जन पर रोक लगाई हुई थी इसको लेकर जिला प्रशासन तक दिखाई दिया आज कल सुबह से ही जिला कलेक्टर आशीष सिंह एसपी इंचार्ज सविता सुहा ने मय पुलिस बल के शिप्रा नदी के घाट पर तैनात रहे इस दौरान कोई भी गणेश की प्रतिमा लेकर खाट के आसपास भी दिखाई नहीं दिया इसके अलावा कलेक्टर और एसपी ने शहर का निरीक्षण भी किया शासकीय गाइडलाइन अनुसार शांतिपूर्ण तरीके से गणेश विसर्जन करने की अपील की थी इसके 10 शहर में इसी तरह का माहौल भी दिखाई दिया हर साल युवाओं की टोली ढोल धमाकों के साथ गणेश विसर्जन करते लेकिन कोविड-19 के चलते जिला प्रशासन द्वारा रोक लगाई गई इसी के तहत सड़कों पर पुलिस चेकिंग पॉइंट लगाए गए यदि कोई भी नियम का उल्लंघन करते दिखाई दिए तो उन पर वैधानिक कार्यवाही की जाएगी हालत भक्त गजानन को टू व्हीलर पर शांतिपूर्ण अपने मन में गजानन की आस्था लिए ले जाते दिखाई दी गणेश विसर्जन की प्रशासन द्वारा अलग से व्यवस्थाएं की गई थी उन्हें चिन्हित स्थानों पर गणेश विसर्जन हुआ

इसके अलावा हर साल की तरह अनंत चतुर्दशी के मौके पर झांकियां भी निकाली जाती लेकिन कोविड-19 के चलते शासन का हेड लाइन अनुसार जल्द से और जुलूस पर प्रतिबंध लगाया गया जिसके तहत इस बार शहर वासियों को शाम ढलने के बाद झिलमिलाती झांकियां देखने को नहीं मिलेगी

Tags

Related Articles

Back to top button
Close